”सेल्यूट रम्या जी को को सच बोलने के लिए !

kannada_actress_ramya
by — सिकंदर हयात

प्रेमचंद की अमर कहानी पंच परेमश्वर में बूढी खाला अलगू चौधरी से कहती हे ” क्या बिगाड़ के डर से ईमान की बात भी ना कहोगे बेटा ” आज की तारीख में सेल्यूट करना होगा कन्नड़ हीरोइन और नेत्री रम्या जी को जिन्होंने आज के डरावने समय में जब खुद केंद्र सरकार सस्ते अराजक भड़काऊ असामाजिक तत्वो की हौसला अफ़ज़ाई कर रही हो जहां रक्षा मंत्री तक देश के सबसे बेहतरीन और पक्के देशभक्त आमिर खान जैसे सुपर सितारे को धमकी देता हो जब दक्षिणपंथी ताकतों का हौसला आसमान पर हो जब कश्मीर को लेकर बेहद तनाव का माहौल हो ऐसे समय रम्या जी का मनोहर पर्रिकर दुआरा पाकिस्तान को नरक कहने पर उनका ये बयान की पाकिस्तानी बिलकुल हमारे जैसे ही हे और पाकिस्तानियो ने उनसे सार्क सम्मलेन के लिए इस्लामाबाद जाने के समय बेहद अच्छा व्यवहार किया था उनके इस बयान पर भारी हंगामा और विरोध ही नहीं हो रहा हे उन पर देश द्रोह का केस तक दर्ज हो गया हे इस पर भी रम्या जी नहीं डरी और उन्होंने अपना बयान वापस लेने से साफ़ इनकार कर दिया रम्या जी की इस ईमानदारी वो भी ऐसे कठिन समय पर इसकी जितनी तारीफ की जाए कम होगी वास्तव में इंसान की सही पहचान मुश्किल वक्त में उसके लिए स्टेण्ड से ही ज़ाहिर होती हे रम्या जी ने बिलकुल सही और जरुरी बात कही जो आज कहना जरुरी हे क्योकि दोनों देशो में दक्षिणपंथी ताकतों के हौसले चरम पर हे और हमेशा याद रहे की आख़िरकार तो इसका एक ही नतीजा निकलना हे हथियारों की होड़ और खरीद यही साऊथ एशिया पर राज़ कर रही शोषणकारी ताकतों की दिली इच्छा हे https://khabarkikhabar.com/archives/2318

जरा सोचे की रम्या जी ने भला क्या गलत कहा की पाकिस्तानी हमारे ही जैसे हे ये तो खरा सच हे ही जिससे भारत के ही नहीं पाकिस्तान के भी कट्टरपन्ति बेहद चिढ़ते हे जब पाकिस्तानी लिबरल कहते हे की हम और हिंदुस्तानी एक ही तो हे और हिंदुस्तान और हिन्दू हमारे दुश्मन नहीं हे तो पाकिस्तानी कटटरपन्तियो शोषणकारियो की फौज भी तड़प उठती हे लेकिन भला इसमें क्या शक हे बॉर्डर खिंच देने से हज़ारो साल का इतिहास सन्सक्रति थोड़े ही मिट जाएगा आखिर हे तो हम सब एक ही. यही कारण हे की पाकिस्तान की कोई भी अच्छी चीज़ भारत में भी पसंद की जाती हे देखा जाए तो रात दिन पाकिस्तान और भारतीय लिबरलों के खिलाफ ज़हर उगलने वाला ( इस समय रम्या जी के खिलाफ ) छी न्यूज़ ग्रुप तक पाकिस्तानी ड्रामो को भारत में सेल करता हे उनके लिए अलग चेनेल खोलता हे और पैसा बनाता हे उन्हें पता हे की पाकिस्तानी सीरियल भारत में चलेंगे ही क्योकि हे तो हम सब एक जैसे ही , आखिर छी न्यूज़ ग्रुप नेपाल से सीरियल क्यों नहीं लाता हे- ? इसी तरह पाकिस्तान में भारतीय सास बहु छाप सीरियलो की दीवानगी हे और फिल्मो की तो हे ही इससे वहाँ की कट्टरपन्ति ताकते बेहद चिढ़ती और इन्हें रुकवाने की बेन करवाने की लोगो को ” हिन्दू कल्चर ” से दूर करने के लाख बल्कि करोड़ जतन करते हे मगर सफल नहीं होते हे पकिस्तान में अरब या ईरानी तुर्की टीवी से बहुत ज़्यादा भारतीय कंटेंट ही पसंद किया जाता हे क्यों ? क्योकि भारतीय चीज़े या संस्कर्ति या हाल या हालात कोई परायी चीज़ हे ही नहीं तो भला पसंद क्यों नहीं आएगी —- ?

इसके आलावा ये भी सच हे की पाकिस्तान में आमतौर पर भारतीयों को बेहद सम्मान और मेहमानवाज़ी मिलती हे ये बात पाकिस्तान गए हज़ारो लोग कह चुके हे की जो मान सम्मान और इज़्ज़त उन्हें पाकिस्तान में मिला वैसे कही और कभी नहीं मिला ये सम्मान और इज़्ज़त वो ही लोग देते हे जो ये सच जानते हे की पाकिस्तान की खुशाली का अकेला रास्ता भारत से दोस्ती ही हे ऐसे में मनोहर पर्रिकर का ये बयान की पाकिस्तान नरक के समान हे पाकिस्तान के लिबरलों शान्तिप्रेमियो के दिलो को दुखाने वाला तो था ही महिलाय वैसे भी दुसरो की तकलीफो के प्रति ज़्यादा सेंसिटव होती ही हे इसलिए शायद रम्या जी ने बिगाड़ के डर की परवाह न करते हुए लिबरल पाकिस्तानियो को ये” हीलिंग टच ” दिया हे इसके लिए उनकी जितनी तारीफ की जाए कम होगी आज सबसे अधिक जरुरत हे ऐसे ही लिबरल आवाज़ों का क्योकि मोदी जी सत्ता में आने के बाद पुरे उपमहादीप की दक्षिणपंती ताकतों के हौसले बुलंद हे इनके काम होता हे अधिक से अधिक तनाव फैला जनता को उसके घोर शोषण पर से ध्यान हटवाना और मज़हब और उग्रराष्ट्रवाद की अफीम पिलाना पाकिस्तान के साथ अधिक से अधिक लिबरल होना ही पाकिस्तान और कश्मीर की समस्या का एकमात्र हल हे पाकिस्तान और कश्मीर की जनता मुल्लाओ पुंजिपतियो जमींदारों और बिगड़ैल फौज के शोषण के नीचे दबी पड़ी हे ये लोग खुद को इस्लाम का किला बताते हे इस्लाम के नाम पर हिन्दुओ से हिंदुस्तान से लड़ना और कश्मीर को भारत से अलग करवाना चाहते हे पिछले दिनों हमने देखा की किस तरह से हिंदुत्व की प्रयोग शाला गुजरात में दलित विद्रोह सा हुआ बरसो से उन्हें हिंदुत्व का झुनझुना पकड़ा कर उनका शोषण ही नहीं किया जा रहा था उनका दंगो में इस्तेमाल भी किया जा रहा था अब वहां दलित जागृति आयी हे इस विद्रोह के नेता अब दलित मुस्लिम एकता की बात कर रहे हे पाकिस्तान की बहुमत मुस्लिम आबादी का हाल भी गुजरात के दलितों जैसा ही हे जिन्हें पाकिस्तान इस्लाम का किला का झुनझुना पकड़ा कर बरसो से उनका शोषण हो रहा हे इन्ही शोषितो के बच्चो को हिन्दू और हिंदुस्तान से जंग और आतकंवाद पर भेज कर पाकिस्तानी मुल्ला जमींदार और फौज तथा नेता मौज़ करते रहे अगर हम पाकिस्तान के साथ अधिक से अधिक लिबरल और उदार बनेगे तो जल्द ही पाकिस्तानी दलित पीड़ित जनता भी गुजरात के दलितों की तरह विद्रोह कर देगी यही राह और सोच रम्या जी की भी लगती हे एक बार फिर उन्हें सेल्यूट

(Visited 8 times, 1 visits today)

11 thoughts on “”सेल्यूट रम्या जी को को सच बोलने के लिए !

  • August 27, 2016 at 10:03 am
    Permalink

    JI AAP NE SAHI LIKHA HAI , MUJHE SAMJH ME NAHI AATA HAI KE ADALAT AISE AALTU FALTU CASE KO SUNWAI KE LIYE ACCEPT KYO KARTI HAI

    Reply
  • August 28, 2016 at 6:51 pm
    Permalink

    सिकंदर सहाब, आपका लेख सराहनिय है । असल मे मुल मुद्दो से ध्यान हटाने के लिए आज कल नये नये मुद्दे आ रहे हैं ताकि जनता बेरोजगारी, मेंहगाई, काले धन पे बात ना करे।

    Reply
  • August 29, 2016 at 8:09 pm
    Permalink

    शुक्रिया रमेश जी और अबरार साहब आगे और अच्छे लेखन की कोशिश रहेगी खेर आज के हालात पर प्रीतिश नन्दी का ये लेख ज़बरदस्त हे लेकिन बात यही हे ना की जब तक इन्हें सब कुछ समझ आता हे , तब तक इनकी बॉडी चिंतन के तो बहुत, पर किसी संघर्ष के काबिल नहीं रहती हे और जब हमारे शरीर में दमखम बहुत ज़्यादा होता हे तब हमें चीज़ों की पूरी समझ नहीं होती हे http://www.bhaskar.com/news/ABH-pritish-nandi-column-news-hindi-5399217-NOR.html

    Reply
  • September 1, 2016 at 9:50 pm
    Permalink

    Dilip C Mandal 6 hrs संदीप कुमार ने जो किया उससे संदीप कुमार की पत्नी को दिक्कत हो सकती है और आप कह सकते हैं कि होनी चाहिए. वे मुकदमा करें तो बात समझ में आती है. इस आधार पर वे संदीप से तलाक से ले सकती हैं. जिन महिलाओं के साथ संदीप नजर आ रहे हैं, उनके पति केस कर सकते हैं. दोषी पाए गए तो संदीप जेल जाएंगे. एडल्ट्री के केस में. संदीप ने अगर जबर्दस्ती की है तो पीड़ित महिलाएं केस करें. रेप का केस बनेगा. इस हालत में भी जेल जाएंगे.लेकिन अरविंद केजरीवाल को क्या समस्या है? अरविंद को संदीप की सेक्स लाइफ से क्या दिक्कत है? संदीप की निजी सेक्स लाइफ में अरविंद का इस तरह दिलचस्पी लेना अच्छा बात नहीं है. अरविंद खाप पंचायत के मुखिया की तरह व्यवहार कर रहे हैं. यह आदमी नेता बनने के काबिल नहीं है. छोटा आदमी, छोटी सोच.और इन तथाकथित न्यूज चैनलों को किसी की पर्सनल लाइफ दिखाने का क्या हक है? चैनलों में काम करने वालों की निजी सेक्स लाइफ नहीं होती है क्या? वहां सब पत्नीव्रता लोग काम कर रहे हैं क्या? चैनलों के संपादकों के भी तो स्कैंडल होंगे. उन पर कौन बात करेगा?चैनलों में सब कुछ गाय के घी की तरह शुद्ध-शुद्ध चल रहा है क्या?संदीप के केस में पत्नी समेत तीन महिलाओं और उनके पतियों के अलावा जो भी लोग उछल कूद रहें हैं, वे नीच लोग हैं. क्या मतलब है किसी और की जिंदगी में इस तरह झांकने का. जिनका मामला है, वे निपट लेंगे. आप कौन?अमेरिका ने बिल क्लिंटन के साथ जो किया, वही एक सभ्य समाज की प्रतिक्रिया होनी चाहिए. क्लिंटन पर सेक्स के कारण नहीं, शपथ लेने के बावजूद झूठ बोलने के कारण महाभियोग चला था.बिल क्लिंटन की सेक्स लाइफ अगर हिलेरी के लिए समस्या नहीं हैं, तो किसी और को नाक घुसेड़ने की जरूरत नहीं है…सभ्य समाजों का यही सलीका है.

    Reply
  • September 2, 2016 at 10:15 am
    Permalink

    राजदीप सरदेसाई का वैसे में प्रशंसक नहीं हु कह जाता हे की इन लोगो ने भी सेकुलरिज्म पत्रकारिता आदि की आड़ में खासा पैसा बनाया हे इनके ससुर दुरदर्शन की मोनोपली के दिनों के बड़े अफसर थे इन्ही के अंडर में कहते हे की ये भी आगे बढे ( आरोप कन्फर्म नहीं ) मगर इस मुद्दे पर राजदीप की बात से सहमत हु http://www.bhaskar.com/news/ABH-rajdeep-sardesai-news-hindi-5408497-NOR.htmlपाकिस्तान और पाकिस्तानी मन मानस में हर जगह हर समय भारत से मोहब्बत और नफरत साथ साथ चलती हे हमेशा . मोहब्बत इसलिए की जो भी हो मगर हे तो हम सब एक ही कोई शक ही नहीं , नफरत इसलिए की उन्हें पता हे की ये मोहब्बत आख़िरकार उनका भारत के साथ विलय करवा देगी उनका वज़ूद खत्म कर देगी इसलिए वो हमेशा मोहब्बत प्लस नफरत लेकर चलते हे इस बात को सबसे सटीक विभाजन के बाद ही लोहिया जी ने समझ लिया था उन्होंने तभी डिक्लेयर कर दिया था की ” या तो पाक भारत के साथ लड़ता रहेगा या फिर भारत के साथ मिल जाएगा ” इसलिए हम तो कहते हे की किसी भी कीमत पर देश में शुद्ध हिन्दू मुस्लिम एकता बनाओ मुस्लिमहिन्दू कठमुल्लाशाही कट्टरपंथ के खिलाफ हमेशा लड़ो हर मोर्चे पर https://khabarkikhabar.com/archives/2528दूसरा की पांच साल पाकिस्तान के साथ पीस प्रोसेस जारी रखो जो आ रहा हे उसे आने दो जो होता हे होने दो बातचीत मत तोड़ो इससे ही फिर एक दक्षिण एशिया महासंघ काबुल टू कोहिमा बन सकता हे लेकिन एक तो पाकिस्तानी आई एस आई जिसने पांच साल की मियाद को भाप कर 2004 से चले पीस प्रोसेस को ठीक 2008 में मुबई हमले से पटरी से उतार दिया दूसरे ये भारत पाकिस्तान चीन अमेरिका यूरोप के हथियारों के दलाल और व्यापारी ये ऐसा होने ही नहीं देंगे https://khabarkikhabar.com/archives/2318इसलिए मोदी जी पाकिस्तान पर पूरी तरह से कन फ्यूज़ नज़र आते हे खेर हल वही हे कुछ भी हो जाए पांच साल हमने पीस प्रोसेस जारी रखना हे हो सकता हे की जो अगली सर्कार नितीश ममता नवीन केजरीवाल जैसे सेकुलर लोग बनायगे वो इस बात पर अडिग रहे आमीन

    Reply
  • September 2, 2016 at 2:31 pm
    Permalink

    राजदीप सरदेसाई का वैसे में प्रशंसक नहीं हु कह जाता हे की इन लोगो ने भी सेकुलरिज्म पत्रकारिता आदि की आड़ में खासा पैसा बनाया हे इनके ससुर दुरदर्शन की मोनोपली के दिनों के बड़े अफसर थे इन्ही के अंडर में कहते हे की ये भी आगे बढे ( आरोप कन्फर्म नहीं ) मगर इस मुद्दे पर राजदीप की बात से सहमत हु http://www.bhaskar.com/news/ABH-rajdeep-sardesai-news-hindi-5408497-NOR.htmlपाकिस्तान और पाकिस्तानी मन मानस में हर जगह हर समय भारत से मोहब्बत और नफरत साथ साथ चलती हे हमेशा . मोहब्बत इसलिए की जो भी हो मगर हे तो हम सब एक ही कोई शक ही नहीं , नफरत इसलिए की उन्हें पता हे की ये मोहब्बत आख़िरकार उनका भारत के साथ विलय करवा देगी उनका वज़ूद खत्म कर देगी इसलिए वो हमेशा मोहब्बत प्लस नफरत लेकर चलते हे इस बात को सबसे सटीक विभाजन के बाद ही लोहिया जी ने समझ लिया था उन्होंने तभी डिक्लेयर कर दिया था की ” या तो पाक भारत के साथ लड़ता रहेगा या फिर भारत के साथ मिल जाएगा ” इसलिए हम तो कहते हे की किसी भी कीमत पर देश में शुद्ध हिन्दू मुस्लिम एकता बनाओ मुस्लिमहिन्दू कठमुल्लाशाही कट्टरपंथ के खिलाफ हमेशा लड़ो हर मोर्चे पर https://khabarkikhabar.com/archives/2528 दूसरा की पांच साल पाकिस्तान के साथ पीस प्रोसेस जारी रखो जो आ रहा हे उसे आने दो जो होता हे होने दो बातचीत मत तोड़ो इससे ही फिर एक दक्षिण एशिया महासंघ काबुल टू कोहिमा बन सकता हे लेकिन एक तो पाकिस्तानी आई एस आई जिसने पांच साल की मियाद को भाप कर 2004 से चले पीस प्रोसेस को ठीक 2008 में मुबई हमले से पटरी से उतार दिया दूसरे ये भारत पाकिस्तान चीन अमेरिका यूरोप के हथियारों के दलाल और व्यापारी ये ऐसा होने ही नहीं देंगे https://khabarkikhabar.com/archives/2318इसलिए मोदी जी पाकिस्तान पर पूरी तरह से कन फ्यूज़ नज़र आते हे खेर हल वही हे कुछ भी हो जाए पांच साल हमने पीस प्रोसेस जारी रखना हे हो सकता हे की जो अगली सर्कार नितीश ममता नवीन केजरीवाल जैसे सेकुलर लोग बनायगे वो इस बात पर अडिग रहे आमीन

    Reply
  • September 17, 2016 at 12:17 pm
    Permalink

    ji ramya ne sahi bola magar mere samajh se pakistan yaqeen karne laiq desh nahi hai hame uska samarthan nahi karna chaahiye . aaj pure desh me musalman jo badnaam ho rahe hai usme sab se jayda pakistan ka haath hai .

    Reply
  • September 17, 2016 at 1:05 pm
    Permalink

    अंसारी जी चाहे वो रम्या जी हो या हम , पाकिस्तान का समर्थन कोई सपने में भी नहीं सोच सकता हे पाकिस्तान किसी देश का नहीं एक विचारधारा का नाम अधिक हे में इसे ”केपिटलिस्ट कठमुल्लाशाही ” कहता हु और इसे दुनिया की सबसे घटिया विचारधारा मानता हु लेकिन वो अलग बाते हे बात हो रही थी पाकिस्तान की उस जनता की जो वैसी ही हे जैसी भारत की जनता वो जो सुनते ही की भारत से आये हो सुनते ही अगले को वी आई पि ट्रीटमेंट देने लगती हे https://www.youtube.com/watch?v=7KFRBPkYHiM इस जनता को ”नरकवासी” कहने का ही रम्या जी ने भी और हमने भी विरोध किया था पाकिस्तान( विचारधारा ) का समर्थन कोई भी बेवकूफ या पागल ही कर सकता हे मगर इसमें भी कोई शक नहीं की बहुत से कारण हे जिससे पाकिस्तान की समस्या का कोई फौजी हल नहीं हे पाकिस्तान की समस्या का एक ही हल हे भारत में कोंक्रीट हिन्दू मुस्लिम यूनिटी, जब ये होगा तब ही पाकिस्तानी विचारधारा का भी एंड हो जाएगा वार्ना ये मुस्लिम यूनिटी के दम पर लालकिले पर फिर से मुगलिया झंडा लहराने का सपना देखते हुए भारत से लड़ते और लड़ाते रहेंगे .

    Reply
  • September 19, 2016 at 9:04 am
    Permalink

    Dilip C Mandal
    18 hrs · भारत सरकार के आँकड़ों के मुताबिक़ भारतीय कंपनियों ने पिछले साल पाकिस्तान को 184 करोड़ डॉलर का माल बेचा।
    उन कंपनियों के लिए पाकिस्तान कोई बुरा देश नहीं है। वहाँ से कमाई होती है।
    यह सीधे कारोबार का हिसाब है। दुबई रूट से होने वाले बिज़नेस का हिसाब अलग है ।सरकार चाहे तो एक जाँच इस बात की करा ले कि भारतीय न्यूज चैनलों पर पाकिस्तान से जो एक्सपर्ट और जनरल लोग लाइव बोलते हैं, उन्हें चैनलों ने कितने लाख डॉलर का पेमेंट अब तक किया है। सबसे ज़हरीला बोलने वाले पाकिस्तानी एक्सपर्ट का रेट सबसे ज़्यादा है।इस पर रोक लगनी चाहिए।मेरा फ़्लैट। मुसलमान को बेचूँ या हिंदू को। सोसायटी के जैन साहब को क्या तकलीफ़ है?जैन साहब और सोसायटी के 11 लोगों पर FIR दर्ज। बेहद महत्वपूर्ण फ़ैसला।
    मुस्लिम को घर देने से मना किया तो 11 लोगों पर मुकदमामुंबई। मुंबई पुलिस ने सांप्रदायिक सद्भाव में खलल डालने के आरोप में 11 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। पश्चिम वसई में एक मुस्लिम को फ्लैट देने से इनकार किया गया जिसके बाद इन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। मुस्लिम व्यक्ति को एनओसी जारी करने से इनकार किया गया थाDilip C Mandal

    Reply
  • October 18, 2016 at 9:31 am
    Permalink

    Shamshad Elahee Shams
    4 hrs ·
    कश्मीर का आन्दोलन १०० दिन पूरे कर चुका, ७० दिन कर्फ्यू रहा बाकी दिन हड़ताल, १०,०००० करोड़ के धंधे का नुकसान हुआ. इन दिनों में सुरक्षाबालों ने १०० आंदोलनकर्ताओं को मार डाला, १५,००० से अधिक घायल जिसमे १००० के करीब पैलेट छर्रे लगने से अपनी आँखे खो चुके, १०,००० लोगों की गिरफ्तारी हुई, ५,००० से ज्यादा को पकड़ने के प्रयास जारी हैं.
    मोती, अपने पिछवाड़े में लगी आग बुझाने के लिए पडौस में बाल्टी लेकर पहुँच जाते हैं, जी-२० हो या ब्रिक्स पकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित कराने वाली चांडाल विदेशनीति भारत सहित विदेश में जहाँ भी पहुची औंधे मुंह गिरी.
    ब्रिक्स के मजमे का लब्बेलुआब ये है कि रूस ७०,००० करोड़ के हथियार भिखमंगों को बेच गया, चीन बंगलादेश में २० अरब डालर के निवेश का ऐलान कर गया. भक्त ताली बजा रहे हैं कि मोती नेता बन गया..जयेश मोहम्मद, लश्कर तोयबा जैसे शब्द संयुक्त घोषणापत्र का हिस्सा भी न बन सके.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *