जन्नत कैसे लाल हो गई ?

kashmir-dal-lake

लाल चौक पर जब 1975 में शेख अब्दुल्ला ने जीत की रैली की तो लगा ऐसा कि समूची घाटी ही लाल चौक पर उमड पड़ी है। और 1989 में जब रुबिया सईद के अपहरण के बाद आतंकवाद ने लाल चौक पर खुली दस्तक दी तो लगा घाटी के हर वाशिंदे के हाथ में बंदूक है। और अब यानी 2016 में उसी लाल चौक पर आतंक के नाम पर खौफ पैदा करने वाला ऐसा सन्नाटा है कि किसी को 1989 की वापसी दिखायी दे रही है तो किसी को शेख सरीखे राजनेता का इंतजार है। वैसे घाटी का असल सच यही है कि कि लाल चौक की हर हरकत के पीछे दिल्ली की बिसात रही । और इसकी शुरुआत आजादी के तुरंत बाद ही शुरु हो गई । नेहरु का इशारा हुआ और 17 मार्च 1948 को कश्मीर के पीएम बने शेख अब्दुल्ला को अगस्त 1953 में ना सिर्फ सत्ता से बेदखल कर दिया गया बल्कि बिना आरोप जेल में डाल दिया गया। और आजाद भारत में पहली बार कश्मीर घाटी में यह सवाल बड़ा होने लगा कि कश्मीर कठपुतली है और तार दिल्ली ही थामे हुये है। क्योंकि बीस बरस बाद कश्मीर का नायाब प्रयोग इंदिरा गांधी ने शेख अब्दुल्ला के साथ 1974 में समझौता किया तो झटके में जो शेख अब्दुल्ला 1953 में दिल्ली के लिये खलनायक थे, वह शेख अब्दुल्ला 1975 में नायक बन गये। और पह बार लाल चौक पर कश्मीरियों के महासमुद्र को उतरते हुये दुनिया ने देखा। और हर किसी ने माना अब कश्मीर को लेकर सारे सवाल खत्म हुये। और सही मायने में 1982 तक शेख अब्दुल्ला के जिन्दा रहते कश्मीर में बंदूक उठाने की जहमत किसी ने नहीं की। लेकिन 1989 की तस्वीर ने ना सिर्फ दिल्ली। बल्कि समूची दुनिया का ध्यान कश्मीर की तरफ ले गई। क्योंकि अफगानिस्तान से रुसी फौजें लौट चुकी थीं। तालिबान सिर उठा रहा था। पाकिस्तान में हलचल तेज थी। और दिल्ली के इशारे पर कश्मीर के चुनाव ने लोकतंत्र पर बंदूक इस तरह भारी कर दी। कि देश के गृहमंत्री की बेटी का अपहरण जेकेएलएफ ने किया ।

और पहली बार घाटी के सामने दिल्ली लाचार दिखी। तो लाल चौक पर लहराते बंदूक और आजादी के लगते नारो ने घाटी की तासिर ही बदल दी । और पहली बार जन्नत का रंग लाल दिखायी देने लगा। एक के बाद एक कर दर्जनों आतंकी संगठनों के दफ्तर खुलने लगे। रोजगार ही आतंक और आतंक ही जिन्दगी में कैसे कब बदलता चला गया इसकी थाह कोई ले ही नहीं पाया। आतंकी संगठनों की फेरहिस्त इतनी बढ़ी कि सरकार को कहना पड़ा कि आतंक के स्कूल हर समाधान पर भारी है । फेरहिस्त वाकई लंबी थी। हिजबुल मुजाहिदिन , लश्कर-ए-तोएबा , हरकत उल मुजाहिदिन , जैश-ए-मोहम्मद,जमात-उल मुजाजहिदिन ,हरकत – उल -जेहाद-अल-इस्लामी , अल-उमर-मुजाहिद्दिन , दुखतरान-ए-मिल्लत , लश्कर-ए-उमर , लश्कर -ए जब्बार , तहरीक उल मुजाहिद्दिन , जेकेएलएफ , मुत्तेहाद जेहाद काउंसिल के साथ दर्जन भर आंतकी संगठन । असर इसी का हुआ पहली बार गृह मंत्रालय ने माना कि घाटी में 30 हजार से ज्यादा आतंकवादी है । सेना ने मोर्चा संभाला तो घाटी ग्रेव यार्ड में बदली। 1990 से 1999 तक 20 हजार से लोग मारे गये । इनमें पांच हजार से ज्यादा सुरक्षाकर्मी थे। और इसके बाद घाटी में अमन चैन का दावा करने वाले हर प्रदानमंत्री के दौर को भी देख लें तो आंकडे डराते है
। क्योकि 1999 से 2016 यानी वाजपेयी से मोदी तक के दौर में 22504 लोग मारे गये । वाजपेयी के दौर में सबसे ज्यादा 15627 मौतें हुई. तो मनमोहन सिंह के दस बरस की सत्ता के दौर में 6498 लोगो की मौत हुई । तो मोदी के दो बरस के दौर में 419 लोगो की मौत हुई । यानी 22 हजार से मौत या कहें हत्या में नागरिक भी और सुरक्षा कर्मियो की लंबी फेरहसित भी और आतंकवादी भी । सेकिन इस सिलसिले् को रोके कौन और रुके कैसे यह सवाल दिल्ली के सामने इस दौर में बडा होता चला गया । तो कश्मीर की सियासत बिना दिल्ली के चल नही सकती इसका एहसास बाखूबी हर राजनीतिक दल को हुआ । कभी नेशनल कान्फ्रेंस तो कभी पीडीपी । बिना काग्रेस या बिना बीजेपी के दोनो सत्ता में कभी आ नहीं पाये । और कश्मीरी सियासत ने दिल्ली को ही ढाल बनाकर सत्ता भी भोगी और जिम्मेदारियो से मुंह भी चुराया । इसीलिये जो सवाल नेशनल कॉन्फ्रेंस की सत्ता के वक्त पीडीपी उठाती रही। वही सवाल अब पीडीपी की सत्ता के वक्त नेशनल कान्फ्रेंस उठा रही है । दोनो दौर में कश्मीरी राजनीति ने खुद को कैसे लाचार बताया या कहे बनाया। इसका अंदाजा इससे भी मिल सकता है कि फिलहाल घाटी में सडक पर सिर्फ सेना है । सीआरपीएफ है। पुलिस है । सीएम अपने मंत्रियों के साथ कमरे में गुफ्तगू कर दिल्ली की तरफ देख रही है । उमर अब्दुल्ला ट्वीट कर राजनीतिक समाधान खोजना चाह रहे है। और तमाम विधायक अपने घरों में कैद हैं। जो यह कह कर खुद को कश्मीरी युवकों के साथ खड़े कर रहे है कि बुरहान को जिन्दा पकड़ना चाहिये था । एनकाउंटर नहीं करना चाहिये था । तो क्या वाकई हालात 1989 वाले हो चले है । लेकिन घाटी में मरने वालो की फेहरिस्त देखें तो सड़क पर गुस्सा निकालते मारे गये 15 लड़कों का जन्म ही 1990 के बाद हुआ है। शब्बीर अहमद मीर [तंगपूरा बटमालू ] , अरफान अहमद मलिक [नेवा ], गुलजार अहमद पंडित [मोहनपोरा शॉपिया ], फयाज अहमद वाजा [ लिट्टर ], साकिब मंजूर मीर [खुंदरु अचाबल], खुर्शिद अहमद [हरवात, कुलवाम ] , सफीर अहमद बट [चरारीगाम ] ,अदिल बशीर [ दोरु ] , अब्दुल हमीद मौची [अरवानी ], दानिश अय्यूब शाह [ अचबल ], जहॉगीर अहमद गनी [ हासनपुरा, बिजबेहरा ] , अजाद हुसैन [ शॉपिया ] , एजाज अहमद ठॉकुर [ सिलिगाम, अनंतनाग ] , मो. अशऱफ डार [हलपोरा, कोकरनाग ] , शौकत अहमद मीर [ हासनपौरा, बिजबेहरा ] , हसीब अहमद गनई [डाईगाम, पुलवामा ] तो सभी का जन्म 1990 के बाद हुआ । हर की उम्र 18 से 26 के बीच और ये सभी बीते 72 घंटों में आंतकवादी बुरहान के मारे जाने के बाद सुरक्षाकर्मियो का विरोध करते हुये सडक पर निकले और मारे गये । तो क्या वाकई कश्मीर घाटी के हालात एक बार 1989 की याद दिलाने लगे है ।

या फिर आंतक को जिस तरह अब के युवा आजादी के सवालो से जोडते हुये रोमान्टिीसाइज कर रहे है वह 1989 के आतंक से कही आगे के हालात है। क्योंकि आजादी के नारे तले जो विफलता बार बार दिल्ली की रही और जो सियासत घाटी में खेली जाती रही। असर उसी का है कि घाटी के अंदरुनी हालात इतने तनावपूर्ण हैं कि हर छोटी सी चिंगारी उसमें भयानक आग की आशंका पैदा कर रही है । और ये चिंता इसलिए ज्यादा है क्योंकि नारे लगाने या पत्थर चलाने वाली पीढ़ी आधुनिक तकनालाजी के दौर की पीढी है । पढी लिखी पीढी है । विकास और चकाचौंध को समझने वाली पीढी है । और उसके सरोकार लोकतंत्र की मांग कर रहे है । जाहिर है ऐसे में याद महात्मा गांधी को भी कर लेना चाहिये । क्योंकि बंटवारे के ऐलान के साथ जिस वक्त देश में सांप्रदायिक हिंसा का दौर शुरु हो गया था-कश्मीर घाटी में शांति थी। या कहें लोगों में ऐसा मेलजोल था कि महात्मा गांधी भी दंग रह गए। 1 अगस्त 1947 को कश्मीर पहुंचे बापू ने उस वक्त अपनी प्रार्थना सभा में कहा भी- -“जब पूरा देश सांप्रदायिक हिंसा की आग में झुलस रहा है, मुझे सिर्फ कश्मीर में उम्मीद की किरण नजर आती है” या विभाजन के बाद सजिस तरह देश सांप्रदायिक हि्सा में जल रहा था उस वक्त जिस कश्मीर की शांति में गांधी को एकता की उम्मीद दिखी और जिस कश्मीर की संस्कृति में उन्हें हिन्दू मुसलमान सब एक लगे-वो घाटी आजादी के 68 साल बाद एक ऐसे मोड़ पर है,जहां गांधी की सोच बेमानी लग रही है या कहें कि सरकारों ने जिस तरह घाटी को राजनीति की बिसात पर मोहरा बना दिया-उसमें मात गांधी के विचारों की हो गई। क्योंकि-आज का सच यही है कि कश्मीर जल रहा है। आज का सच यही है कि घाटी में एक आतंकवादी के पक्ष में हुजूम उमड़ रहा है। और आज का सच यही है कि घाटी में आजादी के नारे भी लग रहे हैं और लोग सेना के सामने आकर भिड़ने से नहीं घबरा रहे। और सबके जेहन में एक ही सवाल है कि कश्मीर का होगा क्या। वैसे यही सवाल महात्मा गांधी से भी पूछा गया था कि आजादी के बाद कश्मीर का क्या होगा। तो गांधी ने जवाब दिया था “-कश्मीर का जो भी होगा-वो आपके मुताबिक होगा। ” इतना ही नहीं, 27 अक्टूबर 1947 को महात्मा गांधी ने एक सभा में कहा-, ” मैं आदरपूर्वक कहना चाहता हूं कि कश्मीर को राज्य में लोकप्रिय शासन लाना है। ऐसा ही हैदराबाद और जूनागढ़ के मामले में भी है। कश्मीर के वास्तविक शासक कश्मीर के लोग होने चाहिए। ” यानी गांधी ने कश्मीर के लोगों की इच्छा को सर्वोपरि माना लेकिन सरकारों ने लोगों को ही हाशिए पर डाल दिया। नतीजा इसी का है कि घाटी के भीतर एक झटपटाहट है, और बुरहान उस आक्रोश को निकालने की तात्कालिक वजह।

(Visited 18 times, 1 visits today)

5 thoughts on “जन्नत कैसे लाल हो गई ?

  • July 13, 2016 at 11:35 am
    Permalink

    तरह तरह की वाम और गाँधीवादी ताकतों की अथक कोशिशों के कारण धीरे धीरे ही सही बाद 2010 कश्मीर में शांति हो गयी थी मगर हिन्दू कठमुल्लावादी ताकते रात दिन अफ़ज़ल की फांसी फांसी जपती रहती थी ( यही कायर लोग भुल्लर की फांसी पर अकाली दल के सामने चु भी नहीं कर सके ) सत्ता के भूखे भरष्ट कोंग्रेसियो ने सोचा की अफ़ज़ल की फांसी से इन हिन्दू कठमुल्लाओं के वोट उसे मिल जाएंगे जबकि हिन्दू कठमुल्लाओं के एकतरफा वोट मोदी को मिलने ही थे और मिले भी इसके बाद से ही कश्मीर में अलगाववादी ताकतों को फिर से संजीवनी मिल गयी ( जैसा की वाम कार्यकर्त्ता शमशाद इलाही शम्स ने बताया की भारतीय एस्टेब्लिशमेंट के दबाव में आकर जब बांग्लादेश में धड़ाधड़ फांसियों हुई तो उससे कटट्रपन्ति ताकते नए जोश में आ गयी और अनगिनत सेकुलर लेखकों की हत्या हुई ) भारत की पहली शुद्ध संघी सरकार हर तरह से देश का खून चूस रही हे एक तो महगाई ऊपर से रात दिन के क्लेश संघी कटरपन्तियो की फौज जमीन पर और प्रचार में भी बेहद सकिर्य हे बेनामी फौज को छोडिए बल्कि भाजपा से जुड़े लोग खुलेआम गंद फेला रहे हे एक छुटभैया भाजपा की पत्रिका का संपादक जिसकी बीवी बेचारी सरकारी नौकरी करती हे और ये रात दिन नेट पर गंद फैलाता हे वो कश्मीर में भीड़ पर हवाई हमले चाह रहा हे इन्हे पता हे की जितनी अधिक गंद फैलेगी उतना ही अगले चुनाव में भाजपा मोदी के लिए बेहतर होगा इन्ही कायरो के कारण कश्मीर में मूर्छित हो चुके आतंकवाद को संजीवनी बूटी मिल गयी हे

    Reply
    • July 16, 2016 at 9:06 pm
      Permalink

      कटरपन्तियो साम्प्रदायिकों दक्षिणपन्तियो ( हिन्दू मुस्लिम या कोई भी ) का चरित्र कितना घिनोना और शोषक होता हे इनकी इस्लामभक्ति या देशभक्ति कितनी फ़र्ज़ी होती हे ये मेने जीवन में कई बार करीब से देखा अफ़ज़ल की फांसी की बात तो कुछ साल पहले जब अफ़ज़ल की फांसी की मांग जोर शोर से उठ रही थी तब फुटबॉल मैदान में मेने देखा की एक खिलाडी जोर शोर से अफ़ज़ल की फांसी अफ़ज़ल की फांसी कर रहा था ये वो बन्दा था जिनके पुरखे कभी दिल्ली में भैंसे चराते थे शहरीकरण आया तो इनकी बंजर जमीन सोने में तब्दील हो गयी और ये करोड़पति हो गए तो ये अपनी फ़र्ज़ी देशभक्ति दिखाने को अफ़ज़ल की फांसी जप रहा था अब इसका चरित्र कितने घिनोना शोषक था और क्यों देशभक्ति को गुंडों लफंगों की आखिरी शरणस्थली कहा जता हे ये सुनिए की करोड़पति होते हुए भी ये एक हज़ार पांच सौ की फुटबॉल के लिए सबसे पैसे लेता था हद तो तब हो गयी जब मेने देखा की ये अपने बहुत गरीब किरायदारों तक से भी पैसे मांगता था मेरी इकोनॉमी उससे बीस गुना कमतर होगी तब भी में ही अनगिनत फुटबॉल बिना किसी से पैसे मांगे में ही लाया था इसको अपने गरीब किरायदारों से भी फुटबॉल के लिए पैसे मांगते हुए देख कर मुझे बड़ा दुःख होता था और उसके कई गरीब किरायदारों के पैसे में अपनी जेब से ही देता था मगर इस अफ़ज़ल फांसी प्रेमी सस्ते देशभक्त पर कोई फर्क नहीं पड़ता था इन सभी कम्युनल दक्षिणपन्तियो का यही रवैया आप हर जगह देख सकते हे हमारा एक बड़ा मिठाईवाला जो आलू चीनी दूध किसी भी चीज़ के दाम बढ़ते ही हर प्रोडक्ट के दाम फ़ौरन अधिक बढ़ा देते हे और कम होने पर कम नहीं करता हे रेट वही रहते हे और ये संघ परिवार में पूरा एक्टिव हे

      Reply
  • July 13, 2016 at 1:51 pm
    Permalink

    कशमीरी हद से ज़्यादा अलगावादी हे ये न भारत में कोई दिलचस्पी रखते हे ना पाकिस्तान में इनकी इस साइकि के राज़ इतिहास में छुपे हे जब कश्मीरी सारे हिन्दू थे तब इन पर मुस्लिम शासकों ने बहुत अत्याचार किये सेकड़ो सालो में अधिकतर मुसलमान हो गए तभी अंग्रेज़ो ने 75 लाख में रूपये इन्हे बेच डाला और हिन्दू डोगरा राज़ आ गया अब उसने इन पर बहुत ज़ुल्म किये इसलिए कशमीरी बेहद अलगावादी हे उसे भारत या पाकिस्तान से कोई हमदर्दी या लगाव नहीं हे और न ही इस समस्या का फिलहाल कोई हल दीखता हे ऊपर से भारत में आई इतिहास की पहली शुद्ध संघी सरकार के कारण बड़ी मुश्किल से आई थोड़ी शान्ति भी भंग हो गयी हे दो साल पहले ही ओम थानवी ने सही कहा था की इस सरकार के रहते तो न भारत पाक बातचित हो सकती हे न कोई शान्ति प्रकिर्या ही आगे बढ़ सकती हे

    Reply
    • July 17, 2016 at 1:17 pm
      Permalink

      और जब हिन्दु शासक आये तो उन्होने मुस्लिमो पर जुल्म किये जैसे नमाज बन्द करा देना रोजगार आदि का ना मिलना(आजादी से पहले )

      Reply
      • July 17, 2016 at 2:02 pm
        Permalink

        नमाज़ आदि तो बंद नहीं कराई थी नमाज़ में ऐसी कोई बात होती ही नहीं हे जिससे किसी को कोई एतराज़ हो या कोई और बात हो मगर वैसे ये डोगरा बहुत अत्याचारी शासक थे ( वैसे अधिकतर शासक अत्याचारी और मुर्ख ही होते हे ) इनके राज़ में गो हत्या पर मृत्युदंड मिलता था सोचिये भारत क्या दुनिया क्या पुरे ब्रह्मांड में कही जानवर की हत्या पर इंसान को मृत्युदंड नहीं मिलता ये कारनामा किया इन डोगरों ने सारी जमीन इन्ही की थी पद नहीं दिए जाते थे आदि इसी से ये इतने अलगावादी हुए हद से ज़्यादा खेर जो भी हे ज़बरदस्ती किसी को भी कीसी से भी प्यार नहीं करवाया जा सकता हे कश्मीरी अगर खुद को हिंदुस्तानी नहीं मानते तो उन्हें जबदस्ती हिंदुस्तानी बनाने की खफ्त से कोई फायदा नहीं हे वैसे संघियो बजरंगियों की खफ्त देखिये की वो कश्मीरियों को भारतीय कहते हे और भारतीय मुसलमानो को पाकिस्तानी ———?

        Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *