कठघरे में केजरीवाल ?

aap

राजनीति को कीचड़ मान कर उसमें कूदकर सिस्टम बदलने का ख्वाब केजरीवाल ने अगर 2012 में देखा तो उसके पीछे राजनीतिक भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना आंदोलन का दबाव था । रामलीला मैदान में लहराता तिरंगा और जनलोकपाल के दायरे में पीएम सीएम सभी को लाने की सोच। यानी भ्रष्टाचार से घायल देश के सामने यही सवाल सबसे बड़ा है कि अगर सत्ता में बैठे राजा जो खुद को सेवक कहकर देश में लूट मचाते है, उन पर रोक कैसे लगे तो आंदोलन से निकली पार्टी को सत्ता सौपकर जनता ने भी माना कि उसने न्याय किया । लेकिन वोट डालने वालों को कहां पता था कि जिन्हे वह अपना नुमाइन्दा बना रहा है । उम्र के लिहाज से ना उनके पास अनुभव है। शिक्षा के लिहाज से ना डिग्री वाले है । जनता से सीधे सरोकार भी नहीं है । जो इन्हें जिम्मेदार बनाये। सपने जागे और हवा चली तो हर कोई जीतता चला गया।

इसीलिये सवाल सिर्फ इतना नहीं कि केजरीवाल के तीन मंत्री तीन ऐसे मामलो में फंसे जो आंदोलन में शामिल किसी के लिये भी शर्मनाक हों । सवाल तो ये भी है कि तोमर हो या असीम अहमद खान या फिर संदीप कुमार इन्होंने अन्ना आंदोलन में ना तो कोई भूमिका निभायी, ना ही केजरीवाल के राजनीति में कूदने से पहले कोई राजनीतिक संघर्ष किया। और दिल्ली जहां सबसे ज्यादा शिक्षित युवा है, वहां कैसे युवा विधायक बने। जो ग्रेजुएट भी नहीं थे । पांच विधायक नौंवी पास । तो 5 विधायक दसवीं पास । दर्जन भर विधायक ग्यारहवी और बारहवीं पास । और शुरु में ही कानून मंत्री बने जितेन्द्र तोमर तो कानून की फर्जी डिग्री के मामले में ही फंस गये। तो क्या आम आदमी पार्टी ने ठीक उसी तर्ज पर राजनीति में जीत के लिये बीज बो दिये जैसा देश की तमाम पार्टियां करती है । क्योंकि जिस जनलोकपाल का सवाल भ्रष्ट राजनीति पर नकेल कसने निकला। और दिल्ली में सत्ता पलट गई । उसी दौर में देश में जनता के मुमाइन्दे ही सबसे दागदार दिखे । मसलन लोकसभा में 182 सांसद दागदार है । देश भर की विधानसभाओं में 1258 विधायक दागदार हैं । तमाम राज्यो में 33 फीसदी मंत्री दागदार है । ऐसे में केजरीवाल के 11 दागदार विधायक भी चल गये । तो क्या राजनीति करते हुये सत्ता पाने का रास्ता ही दागदार है । तो फिर जनता से जुडे मुद्दे कहा टिकेंगे । या कितने मायने रखेंगे । और जब सत्ता ही जनता से घोखा देने वाली व्यवस्था बना रही हो तब दिल्ली के सीएम केजरीवाल का ये दर्द कितना मायने रखेगा कि सैक्स स्कैंडल में फंसे संदीप कुमार ने आंदोलन को धोखा दे दिया । क्योंकि सवाल ये नहीं है कि जो भ्रष्ट फर्जी या स्कैंडल में लिप्त पाया गया केजरीवाल ने उसे मंत्रीपद से हटा दिया । सवाल तो ये है कि जिन आदर्शो के साथ आम आदमी पार्टी बनी । जिस सोच के साथ राजनीति में आई । जो उम्मीद जनता ने बांधी वह सब इतनी जल्दी कैसे और क्यों मटियामेट होने लगी । तो सवाल तीन है। आम आदमी पार्टी में जो चेहरे जुड़े क्या वह वाकई संघर्ष करते हुये निकले। या फिर अन्ना के आंदोलन और राजनीति से होते मोहभंग की स्थिति में दिल्ली की जनता से आप का विकल्प चुना । जो चेहरे विधायक बन गये । जो चेहरे मंत्री बन गई । वह ईमानदारी या व्यवस्था बदलने की सोच को लेकर राजनीति में नहीं कूदे । बल्कि देश में एक हवा बही और उस हवा में मौका परस्ती के साथ ऐसे चेहरे आप में आ गये । तो क्या केजरीवाल इन हालातों को समझ नहीं पाये या फिर वह एसे लोगो की ही फौज को लेकर आगे बढ़ना चाहते थे । क्योकि वैचारिक तौर पर या कहे बोध्द्दिक तौर पर कोई प्रतिबद्दता समाज के साथ आप की विधायक बनी भीड़ में है भी या नहीं ये भी सवाल है ।

तो क्या जनता के सामन एक ऐसा शून्यता आ रही है, जहां राजनीतिक सत्ता से उसका भोहभंग हो जाये । क्योंकि हालात राजनीतिक सत्ता के साथ सुलझ सकते ये सवाल लगातार अनसुलझा है । सत्ता बदलती है । लेकिन हालात कही ज्यादा बदतर हो जाते है । तो क्या भारत में आंदोलन भी सिर्फ सत्ता पलटने से आगे बढता नहीं । और संघ ने इस महीन लकीर को पक़ड कर खुद की उपयोगिता लगातार बनायी रखी । तो क्या केजरीवाल को भी राजनीति में आने के बदले संघ की तर्ज पर दबाब समूह के तौर पर काम करना चाहिये था । क्योंकि याद कीजिये राजनीतिक भ्रष्ट्रचार के खिलाफ जेपी का आदोलन हो या अन्ना आंदोलन । दोनो ही दौर में संघ के स्वयसेवक आंदोलन के पीछे खडे नजर । और दोनो ही दौर में देश की राजनीतिक सत्ता पलटी । आंदोलन क राजनीतिक लाभ 1977 में जनता पार्टी की जीत के साथ सामने आया तो 2013 और 2015 में दिल्ली विधानसभा चुनाव में केजरीवाल की जीत और 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के सू़पड़ा साफ होने के साथ सामने आया ।

यानी संघ की राजनीतिक दखलअंदाजी जनता के मर्म को छुने वाले मुद्दो पर खडे आंदोलनो को सफल बनाने की जरुर रही । लेकिन खुद किसी आंदोलन को खड़ा करने की स्थिति में सीधे तौर पर संध सामने कभी नही आया । और याद किजिये तो ये सवाल 2014 के लोकसभा चुनाव के वक्त भी उभरा की संघ की राजनीतिक सक्रियता का मतलब है मोदी को पीएम उम्मीदवार बनवाने से लेकर वोटरो को घरो से बाहर कैसे निकाला जाये । तो क्या संघ राजनीतिक सक्रियता सत्ता पलटने , दिलाने की भूमिका में रहती है क्योंकि वह राजनीति दाग में राजनेताओ की खत्म होती नैतिकता को पहचानती है । और केजरीवाल व्यवस्था परिवर्तन की बात कहकर भी खुद ही बदलते दिखे । और बीजेपी संघ का राजनीतिक संगठन बनकर सियासत को महत्व देती है संघ के आदर्श का नहीं । मसलन-गोवा में ईसाई वोटों के लिये बीजेपी समझौता कर सकती है संघ नहीं । कश्मीर में धार 370 पर सत्ता में रहकर बीजेपी खामोश रह सकती है संघ नहीं । जाति की राजनीति को सोशल इंजिनियरिंग का मुल्लम्मा बीजेपी चढा सकती है, संघ नहीं । यानी राजनीतिक दल कुछ भी कर राजनीति कर सकता है क्योकि उसके लिये नैतिकता या जिम्मेदारी कोई मायने नहीं रखती है । ध्यान दें तो आंदोलन से मिली सत्ता चाहे वह 1977 की हो या 2013 की । दोनो ही डगमगायी । 1977 में मोरारजी देसाई की सरकार दो बरस में ही ढहढहाकर गिर गई । और दिल्ली में 2013 के 49 दिनो के बाद 2015 में दोबारा इतिहास रचकर केजरीवाल सत्ता में आये लेकिन डेढ बरस के भीतर ही राजनीतिक हमाम में सभी एक सरीखे दिखने लगे ।

(Visited 7 times, 1 visits today)

2 thoughts on “कठघरे में केजरीवाल ?

  • September 4, 2016 at 8:01 am
    Permalink

    Mayank Saxena
    1 September at 10:38 ·
    अरविंद केजरीवाल ने बड़ी चालाकी से राजनीति का दफ्तरी उसूल अपनाया था…दफ्तरी उसूल अमूमन कार्यालयों की राजनीति में लागू होता है…वह ये है कि क़ाबिल और बढ़िया लोगों की जगह चापलूसों और अक्षम लोगों को अपने नीचे के अहम पदों पर बिठाया जाए…इस तरह से आपके खिलाफ बगावत की संभावनाएं कम होती जाती हैं…
    अरविंद केजरीवाल ने अपने नीचे ऐसे तमाम चापलूस प्यादों को खड़ा किया, प्रश्रय दिया…और अंततः हर रोज़ उनके यहां से ऐसे अवसरवादियों का जुलूस निकल रहा है…दिक्कत ये नहीं है कि ऐसे लोगों की पोल खुल रही है…दिक्कत ये है कि इससे आम आदमी पार्टी से जुड़ गए, कई ढंग के लोगों के लिए वहां बने रहना मुश्किल हो रहा है…
    बगावत रोकने के लिए हम ने दफ्तरों से देश तक हमेशा आसान रास्ते अपनाए हैं…क्योंकि मुश्किल रास्ता, सड़कों, बस्तियों, खेतों और जंगलों से हो कर जाता है…आम आदमी पार्टी की राजनीति अंततः जनता पार्टी से बीजेपी वाया जनता दल हो न जाए…

    Reply
  • September 6, 2016 at 2:51 pm
    Permalink

    Yashwant Singh : मीडिया इंडस्ट्री में जबरदस्त उथल पुथल है. चैनल वालों का कोई इमान धरम नहीं रहा… यानि इन पर कोई भरोसा नहीं करता अब… सब जानते हैं कि ये पैसे लेकर खबरें चलाते हैं… सब जानते हैं कि ये निहित स्वार्थी एजेंडे के तहत कोई खबर या कंपेन चलाते हैं… असली खबरों को दबा देंगे, नकली खबरों को चढ़ा देंगे….दो लोग सहमति से सेक्स करें तो इससे मीडिया वालों का क्या वास्ता होना चाहिए. पत्रकारिता की पढ़ाई में यह सिखाया जाता है कि परसनल लाइफ पर कभी खबर नहीं बनाई जानी चाहिए.. लेकिन चैनल वाले तो परसनल लाइफ पर न सिर्फ खबर दिखाते हैं, बल्कि परसनल लाइफ नष्ट तक कर डालते हैं. घेरघार कर महिला से एफआईआर करवा लिया गया और एक नेता को इसलिए जेल भेज दिया गया क्योंकि वह एक ऐसी पार्टी से है जिसकी दुश्मन भाजपा के नेता हैं.दिल्ली पुलिस का इतना शानदार इस्तेमाल कभी किसी ने नहीं किया जितना मोदी जी के कार्यकाल में हो रहा है. भाजपा मेंं शामिल हुए हरक सिंह रावत पर रेप का आरोप लगा तो पुलिस ने हाथ तक नहीं डाला. आरोप लगाने वाली महिला को घेरघार कर यह कहलवा दिया गया कि उसने यूं ही आरोप लगा दिया था, कोई रेप वेप नहीं हुआ. मीडिया वाले भी रेपिस्ट हरक सिंह रावत को बचाने में लग गए और आरोप लगाने वाली महिला को नंगा करने का काम शुरू किया… मीडिया के ऐसेे चिंटुओं से क्या उम्मीद की जाए… सब जानते हैं कि हरक सिंह रावत का इतिहास रेप और रास से भरा पड़ा है… लेकिन उस पर पुलिस नहीं हाथ लगा सकती क्योंकि वह केंद्र में सत्ताधारी पार्टी का नेता है…मैं आम आदमी पार्टी या कांग्रेस का समर्थक नहीं हूं. न ही भाजपा से कोई खास बैर है. इस लोकतंत्र में जनता जनार्दन जिसे चुने, वही राजा. लेकिन कोई गड़बड़ करे तो उसका जिक्र हम लोगों को जरूर करना चाहिए. इस आधार पर कि हम भाजपा के समर्थक हैं तो भाजपा की गल्तियों से आंख मूंद लेंगे और आम आदमी पार्टी के समर्थक हैं तो ‘आप’ की करतूतों को इगनोर कर देंगे, गलत है.Yashwant Singh

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *