आज खुश तो बहुत होगे तुम…

Modi-assam

प्रधानमंत्री के नाम एक भक्‍त का खुला पत्र

by — Vyalok Pathak

आदरणीय प्रधानमंत्री
नरेंद्रभाई दामोदरदास मोदीजी,

आज, खुश तो बहुत होंगे आप। आखिर, कांग्रेसमुक्त भारत का आपका सपना पूरा होने वाला जो लगता है। पांच राज्यों के आए चुनावी नतीजों ने कांग्रेस को और भी हाशिए पर धकेल दिया है। पूर्वोत्तर में आपका खाता खुल गया है, असम में पहली बार पूर्ण बहुमत से आपकी सरकार बनने वाली है। तो क्या हुआ, अगर इस जीत की अगुवाई एक पूर्व कांग्रेसी कर रहा है। तमिलनाडु और केरल में आपका कुछ भी दांव पर ही नहीं था, तो वहां कांग्रेस का बुरी तरह सफाया ही आपके लिए राहत की बात है।

केरल में वामपंथियों का फिर से सत्ता में आ जाना भी आपके लिए राहत की ही बात होगी क्योंकि वाम वाले तो वैसे भी मात्र दो प्रदेशों में सिमट कर रह गए हैं। इनसे निबटना आपके लिए वैसे भी मुश्किल नहीं होगा, अगर कांग्रेस के मुकाबले देखें। वैसे भी, देश के एक कोने में पड़े वामपंथी कहीं अधिक ठीक हैं, बनिस्बत पूरे देश में फैले कांग्रेसी असंतुष्टों के।

वैसे, एक फौरी विश्लेषण तो यही बताता है कि आपके (य़ानी भाजपा के) मूल मुद्दे ही उसको जीत दिला सकते हैं, जैसे असम में आप अवैध बांग्लादेशियों की घुसपैठ का मामला उठा सके और उसे ध्रुवीकृत कर सके, इसलिए अंततः आपको उसका फायदा मिला। तमिलनाडु और बंगाल में वहां की देवियों ने जमकर रेवड़ियां बांटी, इसलिए वह फिर से वापसी कर सकीं। कहने का मतलब यह कि आप अपने मूल मुद्दों (हिंदुत्व) से चिपके रहें और मतदाताओं को लुभावने सपने दिखाएं और बेचें (आखिर, लोकसभा चुनाव भी तो आपने केवल Rhetoric के बूते जीता था ही) तब ही आपका फैलाव होगा। वैसे,आप और आपके लोग तो इन नतीजों का विश्लेषण करेंगे ही, मैं तो एक अदना सा आपका भक्त हूं, जिसने अपनी फौरी प्रतिक्रिया दी है।

अरे हां, भक्त से याद आय़ा। चिट्ठी लिखते हुए तो मैंने पहले अपना परिचय दिया ही नहीं। तो, मेरा परिचय यह है कि मैं आपका एक सामान्य वोटर हूं, जिसे आपके विपक्षी आजकल भक्त भी कहते हैं। भक्त वैसे तो बहुत आध्यात्मिक, सकारात्मक और प्रीतिकर शब्द है,लेकिन आपके विपक्षियों ने इसे ताना मारने के अंदाज़ में कहना शुरू किया और आजकल यह इस मायने में रूढ़ हो गया है कि भक्त जो भी है, वह दक्षिणपंथी है, आपका समर्थक है और आपकी हरेक बात को आंख मूंदकर मानने को तैयार है।

ख़ैर, पहले तो आपकी सत्ता और सरकार के दो साल पूरे होने पर बधाई हो। साथ ही, बड़ी विनम्रता से आपको याद दिला दूं कि अगले साल यानी 2017 में उत्तर प्रदेश और उसके ठीक दो साल बाद 2019 में देश के सबसे बड़े चुनाव की चुनौती आपके सामने है। दिल्ली और बिहार में चूंकि आपकी पार्टी (बाक़ी की तरह मैं इन चुनावों को केवल आपसे नहीं जोड़ता) बुरी तरह हार चुकी है, तो इस मौके पर आपके लिए आत्ममंथन का एक मौका तो बनता ही है न।

श्रीमान, आत्म-मंथन की शुरुआत इससे क्यों न हो कि भाजपा के जो भी गणमान्य या छुटभैये नेता हैं, वे यह अपने दिमाग में अच्छी तरह बैठा लें कि 2019 में उनको फिर से उसी मूढ़ जनता को जवाब देना है, जिसने आपको कांग्रेसी कुशासन और भ्रष्टाचार का खात्मा करने पूर्ण बहुमत से संसद में भेजा था।

आपकी पार्टी के जो बड़े नेता तोंद फुलाए और अधमुंदी आंखों से जनता को कुछ और समझते हुए आश्वासन देते हैं, वे समझ लें कि जनता सब कुछ जानती है।

आपकी पार्टी के नेतृत्व वाली पिछली सरकार (विनम्र दक्षिणपंथी अटल बिहारी वाजपेयी वाली) अपने समर्थकों के सवाल पर गठबंधन का तर्क देती थी, कहती थी कि लोकसभा में स्पष्ट बहुमत दो। शाइनिंग इंडिया करते-करते खुद दस साल तक सत्ता से आउटशाइन हो गए। आपके पास तो लोकसभा का बहाना भी नहीं है, जनता ने झूमकर आपको बहुमत दिया है। अब, आप राज्यसभा में अल्पमत का झुनझुना कब तक थमाते रहेंगे?

राम-मंदिर, धारा 370, समान नागरिक संहिता जैसे ज्वलनशील (!) मुद्दों की बात बाद में करेंगे, पहले तो इसी बात को ज़रा समझा दीजिए कि जीएसटी जैसे महत्वपूर्ण विधेयक जो लटके हुए हैं, उनकी आम जनता को क्या सफाई दी जाए? आख़िर, आपसे तो किसी की हिम्मत होती नहीं, लेकिन भक्त होने के नाते हमें सब लोग निशाने पर रखते हैं। लोग जब किसी भी जरूरी विधेयक के मामले पर संयुक्त सत्र या ज्वाइंट सेशन बुलाने की दुहाई देते हैं, तो उनको क्या तर्क दिया जाए? लोग जब पूछते हैं कि रॉबर्ट वॉड्रा के मामले में क्या हो रहा है, नेशनल हेराल्ड के मामले में क्या हो रहा है, ऑगस्टा डील का क्या हुआ, तो फिर उनको क्या जवाब दिया जाए, यह बताइए प्रधानमंत्री महोदय?

आपकी पार्टी के छुटभैये नेता यह क्यों नहीं समझते कि ये एसी और कलफदार शर्ट माया है। जब सत्ता ही नहीं रहेगी, तो उनका कोई माई-बाप नहीं रहेगा। आपको जिताने के लिए लोगों ने दिन रात वर्चुअल से लेकर रीयल संग्राम किया था, तो अब तो उनको कुछ सवालों के जवाब देने चाहिए न। अच्छा, ये बताइए कि भ्रष्टाचार के मामले पर कांग्रेस को पानी पी-पी कर कोसने वाले हम भक्त भला ललित मोदी और वसुंधरा राजे, सुषमा स्वराज के आपसी संबंधों पर क्या सफाई दें? हम लोग मध्यप्रदेश के व्यापमं घोटाले और उसके गवाहों की असामयिक मौत पर क्या बोलें? और, काला धन वापसी या 15 लाख को जुमला बतानेवाले अमित भाई के बयानों पर क्या रुख लें, ऑफेंसिव रहें या डिफेंसिव हो जाएं?

आप तो मुखिया हैं, सब कुछ जानते हैं, लेकिन आपके लिए सबसे जरूरी मंत्रालयों का हाल भी कुछ ठीक नहीं लग रहा। आखिर, शिक्षा को वामपंथियों से बचाने के लिए भी तो हमने आपके हाथ में नेतृत्व दिया था। ‘प्रथमे ग्रासे मक्षिका पातः’ की तरह आपने स्मृतिजी को उसका मुखिया बनाया, फिर भी हम कुछ नहीं बोले (हालांकि, आपके पास उनसे बहुत बढ़िया विकल्प भी थे), लेकिन उनका प्रदर्शन तो कतई सराहने लायक नहीं है। एफटीआइआइ हो, या जेएनयू, हैदराबाद यूनिवर्सिटी हो या अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी,हरेक जगह सरकार को बैकफुट पर आना पड़ा। भद पिटी, सो अलग। इन सबके बावजूद सरकार की एचआऱडी मिनिस्टर को खड़ी होकर सफाई देनी पड़ी कि हम भेदभाव नहीं करते जी…हमारे फलाना पद पर एक वामपंथी है जी…।

हम लोग तो आपको लौहपुरुष मानते हैं। आपने पार्टी के अंदर जिस तरह अपने विरोधियों को किनारे किया, उनको मार्गदर्शक मंडल में डाला, उसके बाद भला ये कांग्रेसी-वामपंथी आपके सामने क्या हैं? फिर भी, लगता है जैसे 44 सांसद आपकी पार्टी पर हावी हैं,उन्होंने संसद को अपहृत कर रखा है। आपकी पार्टी के ‘फ्रिंज एलिमेंट’ (साध्वी निरंजनाा,योगी आदित्यनाथ, साक्षी महाराज) जो भी बयानबाजी करते हैं, उसकी आपको ख़बर (या आपका आशीर्वाद? ) नहीं होती होगी, ऐसा मानने को मन नहीं करता है। हालांकि, लव जिहाद, बीफ बैन जैसे मसलों से आपको कौन सा राजनीतिक फायदा होने जा रहा है, वह भक्त को समझ नहीं आ रहा है…। देखिए न, एक दादरी ने कितना बवाल मचाया था। इस पर क्या किया जाए, थोड़ा समझा दीजिए प्रधानसेवक महोदय।

आपका सूचना मंत्रालय थोड़ा कमज़ोर लगता है, हालांकि आप सोशल और मेनस्ट्रीम मीडिया के खुद ही मास्टर हैं। तभी तो, आपके तमाम पॉजिटिव काम (लगभग एक करोड़ लोगों का एलपीजी सब्सिडी छोड़ना, डेढ़ करोड़ फर्जी राशन कार्ड रद्द होने, पहल, मुद्रा,कौशल योजना आदि-इत्यादि) तो लोगों तक नहीं पहुंचते, लेकिन स्वच्छ भारत अभियान,गंगा सफाई अभियान, योग दिवस आदि की कमियां या खामियां सब तक पहुंच जाती हैं। अपने सूचना-प्रसारण मंत्री को थोड़ा कसिए सर, हाथ से लगाम फिसल न जाए। हालांकि,कुछ तो यह भी आरोप लगाते हैं कि आपके कुछ करीबी ही (जिनका नाम भी इटली से मिलता है) कांग्रेसी चोला धारण कर आपको नुकसान पहुंचा रहे हैं, लेकिन हमें आपकी राजनीतिक सूझ-बूझ पर पूरा भरोसा है।

आपके हृदय के करीब के मुद्दों पर क्या कहूं- जी की जरनी न जाए। कश्मीर से 370 हटाने की जगह आपने पीडीपी के साथ सरकार बना ली। अब राजनीति के सॉमरसॉल्ट तो आप समझते हैं, लेकिन मूढ़ जनता को, भक्तों को क्या कहा जाए, कैसे सांत्वना दी जाए? अभी सायरा बेगम के बहाने आपके पास समान नागरिक संहिता का अच्छा मौका है, लेकिन उस पर भी कुछ ठोस काम कम से कम होता दिख तो नहीं रहा है। रहे बेचारे रामलला, तो वो पिछले 24 वर्षों से तिरपाल में हैं, दो साल और रह लेंगे, लेकिन आप तो अब भूले से भी उनका नाम नहीं लेते हैं। रॉबर्ट वाड्रा भी अभी तक सींखचों के पीछे तो छोड़िए, मुकदमे का भी शिकार नहीं बना है। इस पर भक्तों का विश्वास तो हिलता है न….

श्रीमन् प्रधानसेवक! कहने को तो बहुत सी बातें थीं, लेकिन जानता हूं आपके पास समय कम है। आप कहां तक मेरी शिकायतें सुनेंगे। निष्‍कर्ष रूप में सर, अर्थनीति से विदेशनीति तक, घरेलू से लेकर रेलनीति तक… सब पर आप बैकफुट पर ही दिख रहे हैं। हंगामा बरपा है और आपके 270 सांसद सोए हुए हैं, पता नहीं मूली उखाड़ रहे हैं या रोप रहे हैं…।

मोदीजी, बेल्ट कसिए… 2017 में यूपी और उसके बस दो साल बाद संसदीय चुनाव है। विकास नाम का आपका बेटा कुपोषित है…. काम नहीं देगा।

आपका अपना
एक भक्त
http://www.junputh.com/2016/05/blog-post

(Visited 4 times, 1 visits today)

2 thoughts on “आज खुश तो बहुत होगे तुम…

  • May 22, 2016 at 7:56 pm
    Permalink

    Rajiv Nayan Bahuguna : क्यों न खाएं रामदेव की दवा… मैं कोई रसायन शास्त्री अथवा कीमियागर नहीं हूँ, अतः अपने सामान्य बुद्धि विवेक का प्रयोग कर मित्रों को सलाह देता हूँ कि रामदेव के किसी भी उत्पाद का इस्तेमाल न करें, अपितु बहिष्कार करें।
    1:- रामदेव का व्यक्तित्व संदिग्ध है। किसी संदिग्ध व्यक्ति से असन्दिग्ध और शुद्ध उत्पाद की अपेक्षा नहीं की जा सकती।
    2:- भगवा बाना पहनने वाला व्यक्ति यदि राजनीति, विज्ञापन, प्रचार, विमान, अकूत धन सम्पदा के फेर में पड़े, तो वह स्वतः ही कोई ठग, मायावी अथवा बुरी नीयत वाला व्यक्ति है। साधुवेश में सीता हरण करने वाले रावण का प्रतीक ग्रहण करें।
    3:- एक सन्यासी अग्नि वर्ण के चीवर पहनने से पहले स्वयं ही अपना श्राद्ध करता है। अर्थात हर प्रकार के बन्धनों से मुक्त हो जाता है। भगवा वस्त्र छोड़ कर स्वप्न में भी सन्यासी कोई अन्य वस्त्र धारण करे, तो वह स्वतः ही सन्यास च्युत हो जाता है, यह आद्य शंकराचार्य की देशणा है। सन्यासी माइनस 30 डिग्री तापमान में भी कोई अन्य वस्त्र नहीं पहनते, चाहे जान चली जाए। लेकिन व्यर्थ के प्राण भय से ग्रसित हो रामदेव ने दिल्ली के रामलीला मैदान में क्या किया था, सभी जानते हैं।
    4:- झूठ बोलना कलयुग में मानव स्वभाव है। हम सभी बोलते हैं। लेकिन सन्यासी झूठ बोलने लगे तो धर्म का कौन हवाल। इन दोनों ने बाल किसन की फ़र्ज़ी डिग्री को लेकर साफ़ झूठ बोला।
    5:- मेरे मित्र और टिहरी बाँध आंदोलन में साथी रहे राजीव दीक्षित दुर्योग से रामदेव के फेर में पड़ गए। बीमार हुए तो मैंने उन्हें राम देव की नीम हकीमी छोड़ उचित उपचार की सलाह दी। नहीं माने। मर गए।

    Reply
    • May 23, 2016 at 11:37 am
      Permalink

      बाबा राम देव् के बध्ते उत्पाद को आप सब रोक नहेी सकते
      बाबा राम् देव का अगर पतन होगा तो अप्ने कर्मो से हेी होगा
      दिल्लि मे कपदे बदल्ना गलत नहेी था बदे कार्य के लिये जान बचाना भेी जरुरेी था !
      मोदि को सत्ता मे लाने मे रामदेव का भेी काफेी योग्दान है ,
      अगर जान जातेी तो तब क्या होता
      हिन्सक् लोगो से जान बचाना गलत क्यो कहा जायेगा
      मुहम्मद जेी ने भेी मक्का से मदेीना चोरेी से , चिप्कर अप्नि जान बचाने के लिये भाग्कर गये थे तभेी से हिजरि सम्बत् चालु होता है

      Reply

Leave a Reply to सिकंदर हयात Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *