आजादी के जश्न तले बीजेपी-संघ का सच

modi

दृश्य – एक , ११ अशोक रोड , बीजेपी हेडक्वार्टर, तिंरगा फहराते बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह । मौजूद बीजेपी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को संबोधित करते हुये । पहली बार बीजेपी के किसी के किसी कार्यकर्ता ने
लालकिले के प्राचीर पर तिंरगा फहराया है। इससे पहले अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार जरुर थी । लेकिन वाजपेयी जी और मोदी सरकार में बहुत अंतर है। उस वक्त सरकार गठबंधन पर टिकी थी । इसबार अपने दम पर है । इस बार सही मायने में एक कार्यकर्ता लालकिले तक पहुंचा है । हमें गर्व होना चाहिये।

दृश्य -दो , बीजेपी हेडक्वार्टर में अध्यक्ष का कमरा । कमरे में गद्दी वाली कुर्सी पर बैठ कर झुलते हुये चाय की चुस्किया लेते बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह। अगल बगल बडे कद्दावर नेताओं की मौजूदगी। रामलाल, जेपी नड्डा,जितेन्द्र सिंह, गोयल समेत दर्जनो पदाधिकारियो की मौजूदगी । अमित शाह चालीसा का पाठ। लेकिन बीजेपी अध्यक्ष खामोशी से चाय की चुस्कियों में ही तल्लीन। ना किसी से चाय का आग्रह । ना किसी से कोई संवाद । बस बीच बीच में किसी को देख कर मुस्कुरा देना।

दृश्य- तीन, हेडक्वार्टर के परिसर में घुमते-टहलते कार्यकर्ता । झक सफेद कमीज या फिर सफेद कुर्ते पजामें में तनावग्रस्त हंसते मुस्कुराते चेहरे। हर की बात में मुहावरे की तरह मोदी । नेता का अंदाज हो या सफल बीजेपी का मंत्र। हर जुंबा पर प्रधानमंत्री मोदी। लालकिले से दिये भाषण में समूची दुनिया को जितने की चाहत बटोरे कार्यकर्ताओं का जमावड़ा। बीच बीच में अध्यक्ष अमित शाह के कमरे की तरफ टेड़ी निगाह। कौन निकल रहा है । कौन जा रहा है। बिना ओर-छोर की बातचीत में इस बात का भी एहसास की कि सांस की आवाज भी कोई सुन ला ले। खासकर जिस सांस से वाजपेयी के दौर का जिक्र हो । तो आने वाले वक्त में कही ज्यादा मेहनत से काम करने की अजब-गजब सोच…कि इसे तो कोई सुन ले।

दृश्य-चार, झंडेवालान, संघ हेडक्वार्टर । छिट पुट स्वयंसेवकों की मौजूदगी । अपने काम में व्यवस्त स्वयसेवकों में पीएम मोदी के लालकिले से तिरंगा फहराने के बाद प्रचारक मोदी की याद। गर्व से चौड़ा होता सीना। शाम चार बजे की चाय को गर्मजोशी से बांटते स्वयंसेवकों में उत्साह। बीच बीच में स्वयंसेवक प्रचारक की सियासी समझ के सामने नतमस्तक संसदीय राजनीति पर बहस से भी गुरेज नहीं।

दृश्य पांच, संघ के सबसे बुजुर्ग स्वयंसेवकों में से एक के साथ बातचीत । तिरंगा तो प्रचारक रहे वाजपेयी ने भी फहराया था तो इस बार प्रचारक से पीएम बने मोदी को लेकर इतना जोश क्यों। वाजपेयी की सरकार अपने ढंग की सरकार थी। वाजपेयी के दौर में ऱाष्ट्रवादी मानस की पूर्ण अभिव्यक्ति हो ही नहीं सकी। प्रधानमंत्री बने रहे और गठबंधन बरकार रहे…सारा ध्यान इसी पर रहा। भाग्य के धनी थे वाजपेयी। उन्हे पीएम बनना ही था। तो बन गये । इसलिये लालकिले पर तिरंगा फहराना सिर्फ तिरंगा फहराना भर नहीं होता है।

दृश्य – छह, संघ के युवा स्वयंसेवक से बातचीत। तो इस बार प्रधानमंत्री ने नहीं प्रधान सेवक ने लालकिले से तिरंगा फहराया। नहीं उन्हें यह नहीं कहना चाहिये। क्यों। प्रधानमंत्री संवैधानिक पद है। तो क्या यह पीएम का
नहीं प्रचारक का प्रवचन था। आप कह सकते हैं। प्रचारक की पूरी ट्रेनिंग ही तो चार ‘पी’ पर टिकी होती है। पीक अप । पीन अप । पुश अप । पुल अप । मैं समझा नहीं। देखिये प्रचारक अपने अनुभव और ज्ञान से सबसे पहले दिलों को अपने संवाद से चुनता है। जिसे पिक-अप कह सकते है। उसके बाद चुने गये व्यक्ति को संघ से जोड़ता है। यह जोड़ना शाखा भी हो सकता है और संगठन भी ।मसलन किसान संघ या मजदूर संघ या बनवासी कल्याण संघ या फिर किसी भी संगठन से। इसे पीन-अप कहते है। इसके बाद प्रचारक संघ से जोड़े गये शख्स को प्रेरित करते है। आगे बढ़ाते है। धकियाते है । आप कह सकते है कि कुम्हार की तरह मिट्टी को थाप देते है जिससे उसका साफ चेहरा उभर सके। इसे पुश-अप कहते है। और आखिर में इस शक्श को समाज-व्यवस्था में ऊपर उठाते है । आप कह सकते है कि कोई बड़ी जिम्मेदारी के लिये तैयार मान लेते है। इसे पुल-अप कहते हैं। तो स्वयंसेवक से प्रचारक और प्रचारक से पीएम बने मोदी भी तो इसी प्रक्रिया से निकले होंगे। बिलकुल । तो फिर लालकिले से प्रधानमंत्री की जगह प्रचारक वाला हिस्सा ही क्यो बलवती रहा । आपका सवाल ठीक है। क्योकि संघ के जहन में तो सामाजिक शुद्दीकरण होता है। लेकिन पद संभालने के बाद नीति लागू कराने में संघ का चरित्र काम करता है ना कि संघ के शुद्दीकरण के प्रचार प्रसार को ही कहना।

१५ और १६ अगस्त के इन छह दृश्यो ने मोदी सरकार और बीजेपी को लेकर तीन अनसुलझे सच को सुलझा दिया । पहला सच , संघ के भीतर पुरानी पीढी और नयी पीढी की सोच में खासा अंतर है । पुरानी पीढी अटल बिहारी वाजपेयी के दौर से अब भी खार खाए हुये है और वाजपेयी-आडवाणी को खारिज करना उसकी जरुरत है क्योंकि अपने दौर का स्वर्ण संघर्ष संघ के स्वयसेवको ने वाजपेयी-आडवाणी के सत्ता प्रेम में गंवा दिया। जिसका हर तरह का लाभ मौजूदा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मिल रहा है। और नरेन्द्र मोदी को किसी भी हालत में संघ खारिज करना नहीं चाहता। दूसरा सच, संघ के भीतर नयी पीढी में इसबात को लेकर कश्मकश है कि बतौर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जो बडे निर्णय लेकर देश के हालात जमीनी तौर पर बदल सकते है वह भी प्रचारक की तरह भावुकता पूर्ण बात क्यों कर रहे है। समूचे देश को डिजिटल बनाना। उसका माध्यम गूगल ही होगा। और गूगल के जरीये जो पोर्नोग्राफी। जो नग्नता खुले तौर पर परोसी जा रही है उसपर कैसे रोक लगायी जाये इसपर कदम उठाने के बदले मां-बाप को अगर प्रचारक की तरह सीख दी जा रही है कि बेटियों से पूछते हैं तो बेटों से भी पूछें। इससे रास्ता कैसे निकलेगा। क्योंकि मोदी की विकास राह तो गांव को भी शहरी चकाचौंध में बदलने को तैयार है। और तीसरा सच, जनादेश का नशा बीजेपी और सरकार के भीतर खुशी या उल्लास की जगह खौफ पैदा कर रहा है। क्योंकि पहली बार खाओ और सबको खाने दो की जगह ना खाउगा और ना ही खाने दूंगा की आवाज कही ज्यादा गहरी हो चली है। और साउथ-नार्थ ब्लाक से लेकर ११ अशोक रोड तक में कोई कद्दावर ऐसा है नहीं जिसका अपना दामन इतना साफ हो कि वह खौफ को खुशी में बदलने की आवाज उठा सके । क्योंकि इसके लिये जो नैतिक बल चाहिये वह बीते २० बरस में किसी के पास बचा नहीं तो हेडक्वार्टर में बीजेपी अध्यक्ष की चाय की चुस्की और लालकिले से प्रचारक का प्रवचन भी इतिहास रचने वाला ही दिखायी-सुनायी दे रहा है

(Visited 2 times, 1 visits today)

4 thoughts on “आजादी के जश्न तले बीजेपी-संघ का सच

  • August 21, 2014 at 7:49 pm
    Permalink

    अफज़ल भाई अज़ीज़ुल हिन्द अखबार में जो हमारे खिलाफ गलत गलत बाते कही गयी तो उस सम्बन्ध में जस्टिस काटजू सर प्रेस परिषद के अध्य्क्ष भी हे और शायद उर्दू भी जानते हे सो मेने उनके ब्लॉग सत्यम ब्रूयात पर कॉमेंट देकर ये पूरा केस रख दिया हे वैसे तो खेर उनके पास कहा समय होगा हम जैसे छुटभय्यो के मामले के लिए मगर फिर भी मेने अपनी तरफ से ये मामला उनके सामने रख दिया हे sikander19 August 2014 16:56
    काटजू सर आपको तो शायद उर्दू आती हे तो इसी से जुड़ा एक दुखड़ा आपको सुना दू सर कुछ दिन पहले आपने अपने ब्लॉग कश्मीरी पंडितो से जुड़े सवाल उठाते हुए भारतीय मुस्लिमो से कुछ शिकायते की थी जो तहलका हिंदी में देखी फिर मेने यहाँ कुछ कॉमेंट किये सर मेने बताया था की एक सेकुलर भारतीय मुस्लिम से ज़्यादा तनाव दबाव और कोई नहीं झेलता होगा ( http://justicekatju.blogspot.in/2014/07/kashmiri-pandits.html#comment-form )अब देखिये अल्लाह का करना ऐसा हुआ की इतनी जल्दी इसका प्रेक्टिकल दिख गया सर देखिये की उर्दू के शायद सबसे बड़े पत्रकार अज़ीज़ बरनी जी के अखबार अज़ीज़ुल हिन्द में 17 अगस्त को किन्ही शायद नेहाल सगीर साहब ने लिखा हे की सिकंदर हयात जैसे ब्लॉगर इज़राइल का समर्थन कर रहे हे मुझे उर्दू नहीं आती हे सो मुझे नहीं पता क्या लिखा क्या नहीं लिखा ? वो तो उत्तर प्रदेश में मेरे कज़िन ने पढ़ा और उसने मुझे फोन किया तब पता चला ( वैसे अभी भी नहीं पता चला क्योकि देखा नहीं हे ) और भी सुना हे की मुझे काफी भला बुरा कहा गया ( http://epaper.azizulhind.com/archive.php?arc=2014-08-17&newsId=7184 ) खेर पहली बात तो मेरा तो कोई ब्लॉग ही नहीं हे फिर दूसरा की मेने इज़राइल का समर्थन नहीं बल्कि इज़राइल की कड़ी निंदा की थी इसी पर एक यहूदी सज़्ज़न से बहस भी हुई थी एक नहीं 2 – 2 ब्लॉग पर . में हमेशा सिर्फ पीड़ित के साथ ही खड़ा होता हु वो चाहे कोई भी कोई भी क्यों न हो देखे http://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/KASAUTI/entry/%E0%A4%AB-%E0%A4%B2-%E0%A4%B8-%E0%A4%A4-%E0%A4%A8-%E0%A4%AF-%E0%A4%95-%E0%A4%AE-%E0%A4%B2-%E0%A4%B9%E0%A4%A4-%E0%A4%AF-%E0%A4%B0-%E0%A4%B9%E0%A4%AE-%E0%A4%B8-%E0%A4%B9http://blogs.navbharattimes.indiatimes.com/triptishukla/entry/indian-mujahideen-and-gaza मुझे समझ नहीं आता की फिर मुझे टारगेट क्यों किया गया ? देखिये काटजू सर यही वो हालात हे जिनसे बचने के लिए आपके दोस्त ने कश्मीरी पंडितो पर लेख लिखने से पीठ दिखा दी थी

    Reply
  • August 21, 2014 at 7:54 pm
    Permalink

    बल्कि बाद में भी मेने यहाँ भी इज़राइल सरकार की हैवानियत की निंदा की थी फिर भी क्यों नेहाल सगीर साहब मुझ पर भड़के क्यों ? http://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/KASAUTI/entry/%E0%A4%AE-%E0%A4%B8%E0%A4%B2%E0%A4%AE-%E0%A4%A8-%E0%A4%85%E0%A4%97%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A4%B8-%E0%A4%9C-%E0%A4%A6-%E0%A4%AE-%E0%A4%A6-%E0%A4%86%E0%A4%93-%E0%A4%B8-%E0%A4%AB-%E0%A4%B0-%E0%A4%B8%E0%A4%A4-%E0%A4%AE-%E0%A4%B2-%E0%A4%A4

    Reply
  • August 21, 2014 at 8:05 pm
    Permalink

    यहाँ ये भी साफ कर दू की अज़ीज़ुल हिन्द या किसी भी अखबार पत्रकार या संपादक से मेरा कोई लेना देना कभी नहीं रहा हे न में किसी का भी कभी भी कोई कर्मचारी या पत्रकार या लेखक ही रहा हु अखबारों में ले देकर सिर्फ पंजाब केसरी में मेरे कुछ हास्य व्यंगय छपे हे और कोई किसी अखबार से कोई लिंक नहीं

    Reply
  • August 29, 2014 at 11:30 pm
    Permalink

    पाठको हमने अफज़ल भाई के इज़राइल पर दो दो ब्लॉग पर यही बात कही थी की यहूदी कटटरपन्ति शान्ति चाहते ही नहीं हे पढ़िएhttp://navbharattimes.indiatimes.com/world/britain/in-europe-anti-israel-campaign-intensified/articleshow/41213088.cms

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *